WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

गेहू की खेती मे प्रमुख कीट एवं उनका नियंत्रण

गेहू की खेती मे प्रमुख कीट एवं उनका नियंत्रण

किसान भाइयों इस पोस्ट मे हम गेहू की खेती मे प्रमुख कीट एवं उनका नियंत्रण के बारे मे जानेंगे –

दीमक – Termites in wheat

पहचान – गेहूँ की फसल में इस कीट से बुरी तरह ग्रसित पौधों की जड़ों से आराम से उखाड़ा जा सकता है और यह पत्ता लपेट और सूखे हुए नज़र आते हैं । यदि आधी जड़ खराब हो तो बूटा पीला पड़ जाता है ।

बचाव – पूर्व फसल के अवशेष को खेत से हटा दे । फसल बुवाई के समय गहरी जुताई करे । यदि खेत में दीमक हो तो बचाव हेतु क्लोरपाइरीफॉस 20 % ईसी 4 मिली प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें ।

रासायनिक नियंत्रण – गेहूँ की फसल का दीमक से बचाव करने के लिए दीमक की रोकथाम के लिए क्लोरोपायरीफास 20 % ईसी 1 लीटर प्रति एकर 20 किलोग्राम रेत में मिलाकर खेत मे समान रूप से भुरककर सिंचाई करें ।

दीमक

इन्हें भी पढ़े – गेहू की मुनाफे वाली खेती कैसे बनाए एवं उनात किस्म की जानकारी?

एफिड्स और जसिड्स

पहचान – यह रस चूसने वाला कीट है । यदि यह बहुत ज्यादा मात्रा में हो तो यह पत्तों के पीलेपन या उनको समय से पहले सुखा देता है । यह कीट 15 जनवरी के बाद फसल के पकने तक के समय हमला करती है ।

बचाव – समय पर कीटनाशकों का छिड़काव करें ।

रासायनिक नियंत्रण – थायोमिथाक्साम 25 % डब्ल्यूजी 60 ग्राम प्रति एकर 200 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें ।

जैविक नियंत्रण – नीम तेल 1500 पीपीएम 600 मिली प्रति एकर 200 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें ।

एफिड्स और जसिड्स

माहू कीट

पहचान – माहू कीट कोमल काले रंग का होता है । ये पत्तियों की निचली सतह पर चिपके रहते हैं , जो पत्तियों का रस चूसते हैं । इस कीट से ग्रसित भाग पीला होकर सिकुड़कर मुड़ जाता है । अधिक प्रकोप होने पर पौधों की वृद्धि रुक कर पत्तियां सूखती है और पौधा धीरे – धीरे नष्ट हो जाता है ।

बचाव – गर्मी में गहरी जुताई करनी चाहिए । समय से बुवाई करें | खेत की निगरानी करते रहना चाहिए | 5 गंधपाश ( फेरोमैन ट्रैप ) प्रति हे 0 की दर से प्रयोग करना चाहिए ।

रासायनिक नियंत्रण – थायोमिथाक्साम 25 % डब्ल्यूजी 50 ग्राम प्रति एकर 200 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें ।

जैविक नियंत्रण – नीम तेल 1500 पीपीएम 600 मिली प्रति एकर 200 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें ।

माहू कीट

चूहा

रासायनिक नियंत्रण – चूहों के नियंत्रण के लिए 1 किलोग्राम बाजरे या ज्वार या गेहूं या इनका मिश्रण आटा 20 ग्राम खाने वाले वनस्पति तेल 20 ग्राम पीसी हुई चीनी 25 ग्राम जिंक फॉस्फाइड 80 % इन सब का मिश्रण बनाकर 10-10 ग्राम मात्रा को, कागज़ के टुकड़ों पर , प्रति एकड़ 40 सूखी जगहों पर मेढ़ों के साथ और चूहों के आने जाने के रास्ते में रखें।

चूहा

इल्ली

रासायनिक नियंत्रण – गेहूं की फसल का इस कीट से बचाव करने के लिए 1 एकड़ खेत में 80 ग्राम फ्लूबेनडायामाइड (Flubendiamide) 20 % WG को 200 लीटर पानी के हिसाब से घोलकर स्प्रे करें।

इल्ली


Leave a Comment

ऐप खोलें