WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

सरकार किसानों को देगी डीजल पर अनुदान

फसल सिंचाई के लिए डीजल अनुदान

इस साल देश के अलग – अलग राज्यों में मानसून का वितरण सामान्य ना रहने के कारण इसका सीधा प्रभाव खरीफ फसलों की बुआई पर पढ़ रहा है । ऐसे मे देश के दो बड़े राज्य बिहार तथा उत्तर प्रदेश में किसान सूखे का सामना कर रहे है । ख़ासकर बिहार राज्य में मानसूनी वर्षा नहीं होने के कारण धान, जूट तथा अन्य खरीफ फसलों की बुवाई पर सीधा असर पड़ा है ।

इसे पढे – PM किसान सम्मान निधि के हितग्राही E-KYC की प्रक्रिया पूर्ण कराएं

फसल की बुवाई नहीं कर पा रहें किसान

राज्य में सूखे के कारण किसान एक तरफ फसल की बुवाई नहीं कर पा रहें हैं, तो दूसरी तरफ बोई हुई फसलों को पानी भी नहीं दे पा रहे हैं । इस परिस्थिति को देखते हुए बिहार राज्य सरकार किसानों को सिंचाई के लिए डीजल पर अनुदान देने जा रही है।

fasal-sukha

सूखे की समस्या से निपटने के लिए समीक्षा बैठक

बिहार कृषि मंत्री श्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने बिहार में अनियमित मानसून की स्थिति में सम्भावित सूखे की संभावना से निपटने के लिए समीक्षा बैठक की है।

बैठक में बताया गया कि 11 जुलाई 2022 तक राज्य में सामान्य से 33% कम वर्षा हुई है, जिससे बिहार में सूखे की स्थिति बन गयी है ।

किसानो के लिए अनुदान

किसानों को सूखे की स्थिति से बचाने के लिए उन्होंने निर्वाध बिजली, किसानों को सिंचाई के लिए डीजल अनुदान एवं अन्य वैकल्पिक फसलों के बीज शत प्रतिशत अनुदान पर देने के लिए प्रक्रिया प्रारम्भ करने को कहा है। 

sichayi-india

कितना डीजल पर अनुदान दिया जाएगा

राज्य के किसान सूखे की स्थिति में अपनी फसलों की सिंचाई कर सके इसके लिए बिहार सरकार ने डीजल की खरीद पर अनुदान देने का फैसला लिया है ।

इसके लिए सरकार ने किसानों को धान का बिचड़ा एवं जुट की दो सिंचाई के लिए 60 रु. प्रति लीटर की दर से अनुमानित 10 लीटर डीजल खरीद के लिए 600 रुपए प्रति सिंचाई अर्थात दो सिंचाई के लिए 1200 रुपए तथा धान, मक्का, अन्य खरीफ फसलों के अन्तर्गत दलहनी, तेलहनी, मौसमी सब्जी, औषधीय एवं सुगंधित पौधों की 3 सिंचाई के लिए 600 रु. प्रति सिंचाई की दर से 1800 रुपए अनुदान दिया जाएगा।

जिसके लिए डीजल अनुदान योजना स्वीकृति की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी गई है।

किसानों को बीज पर दिया जाएगा अनुदान

बिहार सरकार ने राज्य में सूखे की स्थिति को ध्यान में रखते हुए किसानों को अन्य कम पानी वाली फसलों की बुआई करने की सलाह दी है ।

soyabeen-seedssoyabeen-seeds

राज्य में संभावित सूखे की स्थिति को देखते हुए आकस्मिक फसल योजना हेतु 30 करोड़ रुपए की योजना स्वीकृत की जा रही है।

जिसके अंतर्गत राज्य सरकार किसानों को बिहार राज्य बीज निगम के माध्यम से अल्पावधि वाले धान के प्रभेदों, प्रमाणित धान, संकर मक्का, अरहर, उड़द, तोरिया, अगात सरसों, अगात मटर, भिंडी, मूली, कुल्थी, ज्वार, बरसीम आदि वैकल्पिक फसलों के बीज शत-प्रतिशत अनुदान पर देने के लिए विचार कर रही है।

इन्हे पढे – Fish-Rice Farming – चावल के साथ करे मछ्ली पालन

Source – kisansamadhan


Leave a Comment

ऐप खोलें