WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

MP फसल गिरदावरी – पटवारियों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे

MP फसल गिरदावरी – MP Fasal Girdawari

पहले किसानों को गिरदावरी को लेकर कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता था । पटवारी अक्सर या तो किसान द्वारा प्रदान की गई जानकारी को गलत भर देते थे, या फिर बिना जानकारी के एक जगह बैठ कर इसकी जानकारी भर दी जाती थी, या कहीं – कहीं तो प्राइवेट कुछ लोगों को इस काम पर लगा कर जानकारी की भरपाई कर दी जाती थी। इस प्रकार की शिकायत हमेशा देखने को मिलती रही है, परंतु अब किसानों को पटवारी के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे ।

मोबाइल ऐप की मदद से की जवेगी गिरदावरी

इन सभी समस्याओं के समाधान के लिए एक मोबाइल एप्लीकेशन को तैयार किया गया है, जिसके द्वारा किसान गिरदावरी के लिए पटवारी पर निर्भर ना होकर स्वयं ही अपने खेत के फसल की सही जानकारी दे सकेंगे, जिससे गलती थी कोई संभावना नहीं रहेगी।

इसे भी पढे – किसानों के समूह से ग्रेडिंग और पैकेजिंग यूनिट लगवाएगी सरकार

आयुक्त भू अभिलेख के द्वारा

मध्यप्रदेश आयुक्त भू अभिलेख के द्वारा इस वर्ष गिरदावरी के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की तकनीक का सहारा लिया जा रहा है, जिसमें सैटेलाइट से प्राप्त इमेज के आधार पर किसान से फसल सत्यापन करते हुए गिरदावरी अभिलेख में दर्ज की जाएगी । हर वर्ष यह काम पटवारियों के द्वारा किया जाता था परंतु अब किसान स्वयं ही इस मोबाइल एप के द्वारा अपने खेत की गिरदावरी कर सकेंगे ।

यहाँ से करे ऐप डाउनलोड

इसके लिए किसानों को प्ले स्टोर पर जाकर MP किसान ऐप को डाउनलोड करना होगा, जिसमें सैटेलाइट इमेज के द्वारा अपने खेत की लोकेशन को ढूंढना होगा ।
उसके बाद आपको कृषि एप में दिखाई जाने वाली फसल से सहमत है, तो जानकारी आगे भरे इसके बाद यही जानकारी सर्वर पर अपलोड हो जायेगी ।

सबसे पहले आपको ऊपर बताए अनुसार प्ले स्टोर से MP किसान ऐप को डाउनलोड करे । उसके बाद आपको मोबाइल नंबर से ऐप मे लॉगिन कर लेना है, लॉगिन करने के बाद ऐप खुल जाएगा।

MP-Fasal-Girdawari-option

फसल गिरदावरी की जानकारी कैसे देखे

फसल गिरदावरी की जानकारी देखने के लिए आपको सबसे पहले MP किसान ऐप को खोलना होगा फिर लॉगिन करना होगा, इसके बाद यहाँ से दूसरे नंबर का विकल्प “गिरदावरी जानकारी” को चुनना होगा ।

MP-Fasal-Girdawari-home

इसके बाद यहाँ से जिले, तहसील, हल्का, ओर गाँव का नाम चुन लेना है, इसके बाद इस लिस्ट से खसरा नंबर या नाम के अनुसार खसरा नंबर चुने जिसकी जानकारी आपको देखनी है ।

MP-Fasal-Girdawari-kisan-info

ऊपर दिखाये अनुसार आप को अपनी जानकारी दिखाई देगी ।

किसान फसल गिरदावरी ऐसे करे

किसान अब अपनी फसल की गिरदावरी स्वयं कर सकेंगे आइये जानते है, कैसे नीचे दिये गए स्टेप्स को फॉलो करे –

सबसे पहले आपको ऊपर बताए अनुसार MP फसल गिरदावरी ऐप को डाउनलोड करना है, जब ऐप मोबाइल मे सफलतापूर्वक डाउनलोड हो जाए तो उसे खोलना है, ओर अपने मोबाइल नंबर से लॉगिन करना है।

उसके बाद आपको पहला विकल्प “फसल स्व-घोषणा” चुन लेना है ।

MP-Fasal-Girdawari-home

इसे खोलने के बाद आपको अपना खसरा जोड़ लेना है ।

MP-Fasal-Girdawari-add-khasra

इसके बाद यहाँ से आपको अपने जिले को चुन लेना है ।

फिर अगले विकल्प मे तहसील को चुन लेना है ।

इसके आगे हल्का नंबर का चुनाव करे ।

इसके बाद आपको अपने गाँव का नाम चुन लेना है ।

फिर अपना खसरा नंबर या नाम देखे ओर उसे जोड़ लेवे ।

MP-Fasal-Girdawari-fill

इसके बाद जमा करे के बटन पर दबाये ।

यहाँ पर आप अपने नाम से जोड़े गए सभी खसरा नंबर दिखा दिये जाएंगे, इसमे से जिस की गिरदावरि करनी है, उसे चुने उसके बाद आपके सामने कुछ जानकारी भरने के लिए एक पेज आ जाएगा, उसमे अपना मोबाइल नंबर डाले उसके बाद आपको नीचे एक ऑप्शन दिखेगा “मौसमी फासले” आपको उसे खोना है, वहाँ पूछि गयी सभी जानकारी ठीक तरीके से भर देनी है, कैमरा का बटन दिखेगा वहाँ से आपको फसल की फोटो ले लेना है, ओर उसके बाद जमा कर देना है ।

इस स्थिति में पटवारी द्वारा जानकारी ली जावेगी

एक निश्चित समय तक यदि किसान द्वारा यह जानकारी नहीं प्रदान की जाती है, तो फिर यह काम पटवारी के द्वारा ही किया जाएगा । पटवारी को अंतिम दिनांक के पहले खेत पर ग्राउंड टूथिंग कर सैटेलाइट के आधार पर ही गिरदावरी दर्ज कराना होगी, जिससे वास्तविकता में सही स्थान एवं सही फसल की गिरदावरी हो सकेगी, क्योंकि इस तकनीक के द्वारा कोई भी गलत जानकारी या फर्जी जानकारी नहीं प्रदान की जा सकती है ।

निर्धारित समय पर ही करे गिरदावरी

मोबाइल ऐप के माध्यम से किसान अपने खेत की गिरदावरी स्वयं तो कर सकेंगे परंतु इसकी एक समय सीमा होगी उसी के अंदर किसानों को अपने खेत की गिरदावरी कर ऐप के माध्यम से इससे अपलोड करना होगा । निश्चित समय के बाद यदि किसान किसी भी कारण से गिरदावरी करने में असफल होते हैं, तो फिर यह काम पटवारियों द्वारा ही यह जाएगा।

इन्हे भी पढे – मध्‍य प्रदेश में सोयाबीन बीज पर मिलेगा 2000 रुपये का अनुदान

join-our-whtsapp-group-mkisan

1 thought on “MP फसल गिरदावरी – पटवारियों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे”

Leave a Comment

ऐप खोलें