WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

मसूर की वैज्ञानिक खेती एवं उन्नत तकनीक

बुआई का समय

रबी में –

बुआई का समय – 15 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच

फसल अवधि – 130 से 170 दिन


तापमान , मिट्टी की तैयारी व खेत की जुताई

मसूर की खेती सभी प्रकार की मिटटी में की जा सकती है लेकिन इस फसल के लिए बलुए दोमट मिटटी अच्छी मानी जाती है । फसल की बुवाई करने से पहले खेत की 2-3 जुताई हैरों या देशी हल से करने के बाद पाटा लगा दें ।


मसूर की उन्नत किस्में ( Varieties )

  • पूसा शिवालिक ( एल 4076 ) – अवधि 130 से 140 दिन मसूर की यह किस्म बड़े आकार के दाने वाली है , जो 130 140 दिन में पक कर तैयार होती है । इस किस्म से एक हैक्टेयर क्षेत्र से 25 क्विंटल तक उपज प्राप्त होती है ।
  • पन्त मसूर 5 – अवधि 160 से 170 दिन यह मसूर की किस्म गेरूई , उकठा एवं झुलसा रोग के प्रति अवरोधी , समय से बुवाई एवं बड़े दाने वाली मसूर है । यह किस्म160-170 दिन में पककर तेयार हो जाती है । इस किस्म से 18-20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उपज मिलती है।
  • वी एल मसूर 125 – अवधि 160 से 165 दिन इस किस्म का दाना काले रंग का , पौधे की ऊँचाई 30 से 32 सेंटीमीटर , फसल पकाव की अवधि 160 से 165 दिन तथा उकठा एव जड़ विगलन रोगों हेतु प्रतिरोधी और उपज क्षमता 18 से 20 क्विंटल प्रति हक्टयर है ।
  • Garima – अवधि 130 से 135 दिन यह सिंचित और असिंचित दोनों क्षेत्रों में उगाई जा सकती है । इसके पत्ते चौड़े और हरे रंग के होते हैं । इसके दाने सपना किस्म के दानों से बड़े होते हैं । यह किस्म 135 दिनों में कटाई के लिए तैयार जाती है । इसकी औसतन पैदावार 6 क्विंटल प्रति एकड़ होती है ।
  • वी एल मसूर 1 – अवधि 165 से 170 दिन यह किस्म 165 से 170 दिन में तैयार हो जाती है । यह रोग प्रतिरोधी किस्म है इससे प्रति हेक्टेयर लगभग 10 से 12 क्विंटल पैदावार प्राप्त हो सकती है ।
  • वी एल मसूर 103 – अवधि 170 से 175 दिन इस किस्म का छिलका भूरा और दाना छोटा होता है । यह फसल लगभग 170 से 175 दिनों में तैयार हो जाती है । इससे प्रति हेक्टेयर लगभग 12 से 14 क्विंटल पैदावार प्राप्त हो सकती है ।
  • अरुण ( पी एल 77 – 12 ) – अवधि 110 से 120 दिन इस किस्म का दाना मध्यम आकार का होता है । यह किस्म 110 से 120 दिनों में पक कर तैयार हो जाती है । इससे प्रति हेक्टेयर 22 से 25 क्विंटल पैदावार मिलती है ।
  • पंत मसूर 4 – अवधि 160 से 170 दिन यह किस्म पर्वतीय क्षेत्रों के अनुकूल रहती है । यह किस्म 160 से 170 दिनों में तैयार हो जाती है । इस किस्म का दाना छोटा होता है । इससे प्रति हेक्टेयर लगभग 15 से 20 क्विंटल की पैदावार मिलती है ।
  • पंत मसूर 639 – अवधि 135 से 140 दिन यह लगभग 135 से 140 दिनों में पक कर तैयार हो जाती है । इसे प्रति हेक्टेयर 18 से 20 क्विंटल पैदावार मिलती है ।

बीज की मात्रा

मसूर की 1 एकड़ फसल तैयार करने के लिए छोटे दानों वाली किस्मों के लिए 20 से 25 किग्रा , बड़े दानों वाली प्रजातियों के लिए 22 से 30 किलोग्राम प्रति एकड़ इस्तेमाल करे ।

बीज उपचार

बीज जनित फफूंदी रोगों से बचाव के लिए कार्बेन्डाजिम 2.5 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करना चाहिए । इस उपचार के 4-5 घण्टे बाद राइजोबियम कल्चर से उपचार करें ।

बुआई का तरीका

मसूर की फसल बुवाई को बुवाई के समय कतारों से कतारों की दूरी 20 सेमी और पौधे से पौधे की दूरी 10 सेमी रखे ।


उर्वरक व खाद प्रबंधन

मसूर की फसल बुवाई के समय 10 किलोग्राम यूरिया , 20 किलोग्राम dap , 10 किलोग्राम पोटाश तथा 10 किलोग्राम सल्फर प्रति एकड़ के हिसाब से इस्तेमाल करे ।

मसूर की खेती मे सिंचाई

मसूर की फसल को ज्यादा सिंचाई की जरुरत नहीं होती है । 40 से 45 दिन की फसल में एक सिचाई करे ।

फसल की कटाई

मसूर की फसकल में जब पौधे के पत्ते सूख जाएं और फलियां पक जाएं तब फसल कटाई के लिए तैयार हो जाती है । कटाई करने के बाद अच्छे से सुखाकर फलियों को थ्रेसिंग करे ।



Leave a Comment

ऐप खोलें