WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

खिरा ककड़ी की खेती से हो सकते हैं, मालामाल

खिरा ककड़ी की खेती से कम लागत में अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है, खिरा ककड़ी सलाद के लिए सबसे लोकप्रिय होती है।

खिरा ककड़ी की खेती सारिरिक लाभ के साथ-साथ खेती के लिए भी फायदेमंद है, देश के लगभग सभी भागों में इसकी खेती आसानी से की जा सकती है, तो चलिए आज़ हम इस पोस्ट मे खिरा ककड़ी की आधुनिक खेती के बारे मे जाने। .

बुआई का समय

जायद में

बुआई का समय- फसल अवधि 1 जनवरी से 31 मार्च के बीच

फसल अवधि- 35 से 45 दिन

खरीफ में

बुआई का समय- फसल अवधि 10 मई से 31 जुलाई के बीच

फसल अवधि- 40 से 45 दिन


तापमान , मिट्टी की तैयारी व खेत की जुताई

खिरा ककड़ी की खेती मे फसल के लिए 18 से 25 डिग्री तापमान अच्छा होता है। अच्छे जल निकास वाली बलुए दोमट मिट्टी और पी.एच.मान 5.5 से 6.8 तक इस फसल के लिए अच्छा माना जाता है।

फसल बुवाई से 20 दिन पहले 1 एकड़ खेत में 200 क्विंटल सड़ी हुए गोबर की खाद में 2.5 किलोग्राम ट्रिकोडेर्मा ( Tricoderma ) को मिलाकर खेत में डाल दे। इसके बाद खेत की 3 से 4 बार गहरी जुताई करके पट्टा फेर दे।


खिरा ककड़ी उन्नत किस्में ( Varieties )

  • Shriram Ragini- अवधि 40 से 45 दिन इस किस्म की पहली तुड़ाई 40 से 45 दिन पर हो जाती है। इसके फल का वजन 200 250 ग्राम होता है। इसके फल की लम्बाई 20 से 25 सेमी होती है।
  • Syngenta Glossy- अवधि 42 से 45 दिन इस किस्म में पर्ण रोगों के लिए अच्छी सहनशीलता है। इस किस्म की पहली तुड़ाई 42 से 45 दिन पर हो जाती है। इस किस्म को रबी , खरीफ ,जायद तीनो मौसम में उगाया जा सकता है। इसके फल की लम्बाई 18 से 22 सेमी होती।
  • Seminis Malini- अवधि 43 से 45 दिन इस किस्म की पहली तुड़ाई 43 से 45 दिन पर हो जाती है। इसके फल का वजन 200 से 250 ग्राम होता है। इसके फल की लम्बाई 19 से 22 सेमी होती है।
  • Namdhari NS 404- अवधि 30 से 32 दिन इस किस्म की पहली तुड़ाई 30 से 32 दिन पर हो जाती है। इसके फल का वजन 200 ग्राम होता है। इसके फल की लम्बाई 20 से 22 सेमी होती है।
  • Cucumber Hybrid 2- अवधि 40 से 45 दिन यह नई हाइब्रिड किस्म है। यह ठंडे क्षेत्रों के लिए उपयुक्त किस्म है। इसका पौधा 5 मीटर लंबा होता है । फल हरे रंग के 20-30 सें.मी. लंबे होते हैं । यह किस्म 40 दिनों में तैयार हो जाती है । इसकी औसतन पैदावार 230-250 क्विंटल प्रति एकड़ होती है।
  • Pant Khira 1- अवधि 50 से 60 दिन इसके फल लंबे और बेलनाकार और सफेद धारीदार होते हैं। इसके फल 50-60 दिनों के बाद पहली तुड़ाई के लिए तैयार हो जाते हैं। इसकी औसतन पैदावार 60 क्विंटल प्रति एकड़ होती है।

खिरा ककड़ी की खेती मे बीज की मात्रा

खीरा की 1 एकड़ फसल तैयार करने के लिए 400 से 500 ग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

बीज उपचार

हाइब्रिड बीज पहले से उपचारित आते है इनकी सीधी बुवाई की जा सकती है। अगर घर पर तैयार किया हुआ या देसी बीज की बुवाई करते है तो इसे कार्बेन्डाजिम 2 ग्राम + थिरम 2 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित कर ले।

बुआई का तरीका

खीरा की फसल बुवाई के समय पौधे से पौधे की दूरी 30 सेमी और पंक्ति से पंक्ति की दूरी 150 से 180 सेमी रखे। और बीज को 2 से 3 सेमी की गहराई पर बोये।


खिरा ककड़ी की खेती मे उर्वरक व खाद प्रबंधन

बुवाई के समय

खीरा की फसल बुवाई के समय 1 एकड़ खेत में 200 क्विंटल गोबर की खाद , 2.5 किलोग्राम ट्रिकोडेर्मा , 10 किलोग्राम कार्बोफुरान , 50 किलोग्राम पोटाश , 25 किलोग्राम यूरिया , 100 किलोग्राम सिंगल सुपर फॉस्फेट , 5 किलोग्राम जायम , 5 किलोग्राम सल्फर का इस्तेमाल करे।

  • बुवाई के 20 से 25 दिन बाद- खीरा की फसल बुवाई के 20 दिन बाद 1 एकड़ खेत में 25 किलोग्राम यूरिया , 5 किलोग्राम जायम का इस्तेमाल करे।
  • बुवाई के 25 से 30 दिन बाद- फसल बुवाई के 30 दिन बाद 10 ग्राम NPK 0:52:34 और 10 मिली Dhanzayam gold को 1 लीटर पानी के हिसाब से घोलकर पौधे पर स्प्रे करे।

खिरा ककड़ी की खेती मे सिंचाई

  • खीरा की फसल में पहली सिंचाई बुवाई के तुरंत बाद करें।
  • दूसरी सिंचाई के 4 से 5 दिन बाद करे जिससे अंकुरण अच्छा हो सके।
  • पौधो की वनस्पति वृद्धि और मिट्टी में नमी के आधार पर 7-10 दिनों के अंतराल पर सिंचाई करते रहे।
  • फसल में फूल आने के पहले , फूल आने के समय और फल की वृद्धि के समय भूमि में नमी कम नही होना चाहिये। इससे फल के विकास में विपरीत प्रभाव पड़ता है।
  • फसल से फलों की तुड़ाई के 2-3 दिन पहले सिचाई करनी चाहिये जिससे फल ताजे , चमकदार और आकर्षित रहेंगे।
  • किसान भाइयों भूमि की ऊपरी सतह से 50 से.मी. तक नमी बनाये रखना चाहिये । क्योंकि इस क्षेत्र में जडे अधिक संख्या में होती है।

फसल की तुड़ाई

खीरा की तुड़ाई किस्मो के अनुसार 35 से 40 दिन पर शुरू हो जाती है । फलो के साइज के अनुसार तुड़ाई शुरू कर दे।


इन्हे भी पढे :-

Leave a Comment

ऐप खोलें