WhatsApp Group - मंडी भाव

Join Now

सम्पूर्ण भारत का 16 जुलाई 2022 का मौसम पूर्वानुमान

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

उत्तरी ओडिशा और आसपास के इलाकों में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है । संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 7.6 किमी ऊपर तक फैला हुआ है, और ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुक रहा है।

पूर्वोत्तर अरब सागर और गुजरात के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर एक चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है। यह औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है।

इसके प्रभाव से गुजरात तट के पश्चिमी भागों पर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है।

मॉनसून की ट्रफ रेखा जैसलमेर, कोटा, गुना, सागर, पेंड्रा रोड, कम दबाव वाले क्षेत्र के केंद्र से होते हुए दक्षिण पूर्व की ओर बंगाल की पूर्वी मध्य खाड़ी की ओर जा रही है।

उत्तरी अफगानिस्तान और उससे सटे उत्तरी पाकिस्तान पर एक पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, गुजरात, विदर्भ, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, दक्षिण मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा के कुछ हिस्सों और हिमाचल प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई और जम्मू कश्मीर, पंजाब, ओडिशा, उत्तरी आंतरिक कर्नाटकऔर केरल में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश हुई। ।

अंडमान और निकोआर द्वीप समूह, तटीय आंध्र प्रदेश, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल और पश्चिमी राजस्थान में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

दिल्ली, हरियाणा, बिहार, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु और रायलसीमा में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, गुजरात, विदर्भ, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और केरल में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में हल्की से मध्यम बारिश संभव है।

दिल्ली, हरियाणा, बिहार, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और रायलसीमा में हल्की बारिश हो सकती है।

Source – skymetweather.com


Leave a Comment

ऐप खोलें